Diabetic Patients Should Take Row | Turmeric | In Their Diet डायबिटीज के मरीजों के लिए | अमृत समान है कच्ची हल्दी | ऐसे करें इस्तेमाल सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Diabetic Patients Should Take Row | Turmeric | In Their Diet डायबिटीज के मरीजों के लिए | अमृत समान है कच्ची हल्दी | ऐसे करें इस्तेमाल

 

Turmeric | In Their Diet डायबिटीज के मरीजों के लिए | अमृत समान है कच्ची हल्दी | ऐसे करें इस्तेमाल

 Turmeric In Their Diet डायबिटीज के मरीजों के लिए अमृत समान है कच्ची हल्दी, ऐसे करें इस्तेमाल health | Row Turmeric | Row Turmeric Benefits | Row Turmeric Uses | How To Use Row Turmeric कच्ची हल्दी | कच्ची हल्दी के फायदे | कच्ची हल्दी का कैसे इस्तेमाल करें ,Lifestyle and Relationship | Health and Medicine health lifestyle hindi news on hindishayarih

 

कोरोना काल में सेहतमंद रहना बड़ी चुनौती है। इसके लिए इम्यून सिस्टम पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। विशेषज्ञों की मानें तो जिन लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अधिक रहता है। इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए काढ़ा का सेवन करना चाहिए। डॉक्टर्स इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए हल्दी दूध पीने की सलाह देते हैं। हल्दी मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। जबकि आयुर्वेद में हल्दी दवा के रूप में उपयोग किया जाता है। इसमें औषधीय गुण पाए जाते हैं जो कई तरह की बीमारियों में फायदेमंद होते हैं। आमतौर पर लोग हल्दी पाउडर का यूज़ करते हैं, लेकिन कच्ची हल्दी अधिक फायदेमंद होती है। खासकर डायबिटीज में कच्ची हल्दी रामबाण दवा है। अगर आप भी डायबिटीज के मरीज हैं और इससे निजात पाना चाहते हैं, तो आप कच्ची हल्दी का सेवन करें-


 यह भी पढ़े साइनसाइटिस और प्रदूषण



researchgate.net पर छपी एक लेख के अनुसार, कच्ची हल्दी डायबिटीज में बेहद फायदेमंद होती है। इसके सेवन से डायबिटीज में बड़ी जल्दी आराम मिलता है। हल्दी में करक्यूमिन पाया जाता है जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में सहायक होता है। यह ग्लाइसीमिया को कम करता है। इसके लिए डायबिटीज के मरीजों को रोजाना सुबह में नाश्ते के वक्त  कच्ची हल्दी युक्त दूध का सेवन करना चाहिए।






वजन कम करने में सहायक है

विशेषज्ञ भी बढ़ते वजन को कम करने के लिए कच्ची हल्दी का सेवन करने की सलाह देते हैं। इस बारे में उनका कहना है कि करक्यूमिन से एक्स्ट्रा फैट बर्न होता है। इसके सेवन से बढ़ते वजन को नियंत्रित किया जा सकता है। इसके लिए कच्ची हल्दी को पीसकर दूध के साथ सेवन कर सकते हैं।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे