83 Star Cast रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे 83 Trailer Out विदेशी जमीन पर जीत की कहानी देख खुश हुए फैंस | हिंदी शायरी एच सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

83 Star Cast रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे 83 Trailer Out विदेशी जमीन पर जीत की कहानी देख खुश हुए फैंस | हिंदी शायरी एच

83 Trailer Out: रणवीर सिंह की परफॉर्मेंस ने खड़े किए रोंगटे, विदेशी जमीन पर जीत की कहानी देख खुश हुए फैंस 83 Trailer Out: Ranveer Singh's performance raised hairs


 

83 Star Cast रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे 83 Trailer Out विदेशी जमीन पर जीत की कहानी देख खुश हुए फैंस
रणवीर सिंह की फिल्म ‘83’







रणवीर सिंह की फिल्म ‘83’ का फैंस बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं | इस फिल्म का ट्रेलर काफी ज्यादा जोश जगा देने वाला है, जिसमें रणवीर सिंह हूबहू कपिल देव की तरह लग रहे हैं जो साल 1983 में क्रिकेट के विश्व कप के लिए लड़ते हुए नजर आ रहे हैं। वहीं, फिल्म के बाकी किरदार भी किसी से कम नहीं है। रणवीर सिंह की इस फिल्म का ट्रेलर 3 मिनट 47 सेकंड का है, जिसमें 1983 में हुए क्रिकेट के वर्ल्ड कप की कहानी को देशभक्ति और जज्बे की माला में पिरोकर दिखाया गया है।






रणवीर सिंह की फिल्म ‘83’ का फैंस बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं लेकिन फैंस का ये इंतजार आज कुछ हद तक खत्म हो गया है। रणवीर सिंह की मोस्ट अवेडिट फिल्म '83' का ट्रेलर रिलीज हो गया है। आज यानी सोमवार को मेकर्स ने इस फिल्म का ट्रेलर फैंस के बीच शेयर कर दिया है, जिसने फैंस को जरूर खुश कर होगा। इस फिल्म में रणवीर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव की भूमिका निभाते नजर आ रहे हैं और दीपिका पादुकोण कपिल देव की पत्नी के किरदार में नजर आएंगी।
 
ट्रेलर में फिल्म की शानदार झलक
83 फिल्म रणवीर



ट्रेलर में फिल्म की शानदार झलक 
ट्रेलर की शुरुआत बेशक विदेशी धरती पर भारतीय क्रिकेट टीम के कमजोर खेल के साथ होती है, लेकिन जैसे जैसे ट्रेलर आगे बढ़ता है वैसे वैसे फिल्म के किरदारों का जज्बा दर्शकों के मन में जोश पैदा करने वाला साबित हो रहा है। इस फिल्म में साफ दिखाया गया है कि कैसे भारतीय खिलाड़ी विदेशी धरती पर अपने देश का सिर ऊंचा करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। साथ ही आखिर में दिखाया गया है कि कैसे जब इंडिया की टीम क्रिकेट के मैदान में जीत हासिल करती है तो देशभर में दिवाली मनाई जाती है।

 
रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे
83 फिल्म रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे


रणवीर की एक्टिंग ने खड़े किए रोंगटे
इस ट्रेलर में रणवीर सिंह की एक्टिंग हर किसी के रोंगटे खड़े कर देने का काम कर रही है। रणवीर कपिल देव के किरदार में हैं और इस किरदार को उन्होंने पूरी शिद्दत से निभाया है। दूसरी तरफ दीपिका पादुकोण ने एक परफेक्ट पत्नी का रोल निभाया है। इस फिल्म के ट्रेलर को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए रणवीर ने लिखा है, ‘अंडरडॉग्स की सच्ची स्टोरी, जो आप सोच भी नहीं पाएंगे।’ वहीं, फैंस भी इस ट्रेलर को काफी पसंद कर रहे हैं।
 

Film 83 Deepika Padukone first look
Film 83 Deepika Padukone first look  - फोटो : Hindi Shayari h


24 दिसंबर को रिलीज होगी फिल्म
‘83’ का ट्रेलर फैंस काफी ज्यादा पसंद कर रहे हैं और अब फैंस जल्द से जल्द इस फिल्म के देखना चाहते हैं। ये फिल्म 24 दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। ये फिल्म हिंदी, तमिल, तेलुगू, मलयालम और कन्नड़ भाषा में रिलीज होगी। इस फिल्म की खास बात ये है कि इसे 3डी में भी रिलीज किया जाएगा।
विज्ञापन


83 फिल्म - फोटो : सोशल मीडिया
83 फिल्म - फोटो : सोशल मीडिया
 

फिल्म में नजर आएंगे ये सितारे
फिल्म ‘83’ में रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण के अलावा ताहिर राज भसीन, जीवा, साकिब सलीम, जतिन सरना, चिराग पाटिल, दिनकर शर्मा, पंकज त्रिपाठी, हार्डी सांधु, निशांत धहिया, ऐमी विर्क, साहिल खट्टर, आदिनाथ कोठारे, धैर्य करवा और आर बद्री जैसे सितारे नजर आएंगे

 


यह भी पढ़े 2021 Antim Movie Review

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे