Valentine’s Special 2022 By Lalita Goyal: (कैसी हो डार्लिंग) कहिए और 'प्यार' बढ़ाइए-HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Valentine’s Special 2022 By Lalita Goyal: (कैसी हो डार्लिंग) कहिए और 'प्यार' बढ़ाइए-HindiShayariH

 
(कैसी हो डार्लिंग) कहिए और 'प्यार' बढ़ाइए Valentine’s Special 2022 By Lalita Goyal
पति और पत्नी दिन की शुरुआत  किस ऑफ़ लव से कर के  अपने डगमगाते रिश्तों में सुधार लाने के साथ-साथ अपने प्यार को फिर से जवान बना सकते है.
ललिता गोयल 


Valentine’s Special 2022 By Lalita Goyal
हाय डार्लिंग कैसी  हो Valentine’s Special 2022




“हाय डार्लिंग कैसी  हो ? क्या कर रही हो? हर रोज़ शाम को अपनी पत्नी से ऐसा कहें तो पति पत्नी के बीच कोई कलह और झगड़ा नहीं होगा.”अरे भाई यह हम नहीं पिछले दिनों खरगोन  (मध्य प्रदेश) की एक कोर्ट ने एक शादीशुदा जोड़े के बीच हो रही रोज़ रोज़ की कलह को सुलझाने के लिए फैसला देते हुए ऐसा कहा. और आप यकीन मानिये कोर्ट के इस अनूठे फैसले के बाद शादीशुदा जोड़े के बीच का कलह खत्म हो गया और दोनों फिर से एक हो गए.

पति-पत्नी का रिश्ता बहुत ही खास होता है. यहाँ शुरूआती दौर में तो सब अच्छा अच्छा होता है , दोनों के बीच प्यार मनुहार सब होता है लेकिन समय बीतने के साथ जीवन की आपाधापी और जिम्मेदारियों के बीच रिश्ते का नयापन खोने सा लगता है. पवित्र अग्नि को साक्षी मानकर लिए गए वचन प्यार, संयम, समझदारी के साथ जिंदगी भर साथ निभाने का वादा न जाने कहाँ खो जाता है. इस रिश्ते में नयापन, प्यार और विश्वास ताउम्र बना रहे इसके लिए करने होंगे कुछ छोटे छोटे प्रयत्न जो इस रिश्ते की उम्र को बढ़ाएंगे.

 

छोटी छोटी बातों में बड़ी बड़ी खुशियां

कहते हैं कि खुशियां हमारे आस-पास ही होती हैं,बस उन्हें ढूंढने की जरूरत होती है इसलिए पति पत्नी दोनों को ही जीवन के हर पल में  ढूंढनी होंगी खुशियां. ज्यादातर देखने में यही आता है कि दो लोगों के बीच प्यार तो  बड़ी आसानी से हो जाता है लेकिन उस प्यार को निभाना बहुत मुश्किल होता है.  बहुत से लोग इस तरह के संबंधों में रूटीन लाइफ जीने लगते हैं और उनकी जिंदगी से प्यार और रोमानियत कहीं खो सी जाती है. अगर आप हैप्पी मैरिड लाइफ जीना चाहते हैं, तो यह कुछ ज्यादा मुश्किल नहीं है. इसके लिए बस आपको कुछ बातों का ख़्याल रखना होगा. पति पत्नी का रिश्ता एक-दूसरे के लिए कई छोटी-छोटी चीज़ें करने से मजबूत होता है. जैसे प्यार-से गले लगाना, उसकी सराहना करना,उसके लिए कुछ खास करना, उसकी तरफ देखकर मुसकराना या सच्चे दिल से यह पूछना, “आज तुम्हारा दिन कैसा रहा?”यही छोटी-छोटी चीज़ें शादीशुदा ज़िन्दगी में बड़ीबड़ी  खुशियाँ ला सकती हैं.

प्यार वाली झप्पी

शादी में प्यार और खुशियाँ बनी रहें इसके लिए उसे हर समय प्यार के खादपानी से सींचते रहना होगा. शायद आप नहीं जानते कि पतिपत्नी के बीच वह पल सबसे खुशनुमा होता है जब वे एक दुसरे को  प्यार से गले लगाते हैं या प्यार से सहलाते हैं. उनका एक दूसरे प्रति यह व्यवहार दर्शाता है कि वे एक दूसरे से कितना प्यार करते हैं. दरअसल,ऐसा करते समय वे दोनों एकदूसरे के साथ इमोशनली अटैच होते हैं. प्यार की छोटी सी झप्पी पतिपत्नी के रिश्ते में बड़ेबड़े कमाल दिखाती है. मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि जब हम झगडे के दौरान  सामने वाले को गले लगाते हैं, तो उसके शरीर से गुस्से को बढ़ाने वाले हारमोन तेजी से कम होने लगते हैं और सामने वाला गुस्से को भूल कर आप के प्यार को महसूस करने लगता  है यानी आप की प्यार की झप्पी उस के गुस्से को पल भर में दूर कर देती है.

 

दिन की शुरुआत किस ऑफ़ लव से

पति और पत्नी दिन की शुरुआत  किस ऑफ़ लव से कर के  अपने डगमगाते रिश्तों में सुधार लाने के साथ-साथ अपने प्यार को फिर से जवान बना सकते है. एक दूसरे को गले लगाना और किस करना पति पत्नी के बीच दिन की शुरुआत के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है. यह पति पत्नी के रिश्ते के बीच रोमांस के जुनून को बनाए रखता है.

कनेक्टिविटी जोड़े दिल के तार

भले ही आप कितने ही बिजी क्यों न हों, एक-दूसरे को दिन में फोन करें, मैसेज भेजें बस यह जानने के लिए कि सब कैसा चल रहा है, लंच किया कि नहीं. ऐसी छोटी छोटी बातें पतिपत्नी को एक दुसरे से जोडती हैं और एक कामयाब शादी को गुज़रते समय के साथ और भी खूबसूरत, और भी मज़बूत बनाती है. इसके अलावा जब भी खाली समय मिले इस बात पर विचार करें कि क्या आप अपने पार्टनर की सोच और उसकी भावनाओं को समझते हैं  कितनी बार उसकी तारीफ करते हैं? उस के उन गुणों के बारे में सोचते हैं जिन्हें  देखकर आप  उन की तरफ आकर्षित हुए थे? जिन गुणों को देख कर आपने उन्हें अपना जीवन साथी बनाने का निर्णय लिया था.

 

प्लीज ,सॉरी ,थैंक्यू  जैसे शब्दों से चलायें जादू.

आप किसी से मेट्रो में टकरा जाने पर भी सॉरी कह देते हैं , ऐसे लोग जो हमें ज़िन्दगी के मोड़ पर शायद ही दोबारा मिलें जब हम उन्हें छोटी सी बात पर सॉरी बोल देते हैं तो घर में पति या पत्नी एक दुसरे को इमोशनली हर्ट करने के बाद भीं सॉरी कहना ज़रूरी क्यों नहीं समझते ? ऐसा हरगिज न करें, गलती होने पर माफी जरूर मांगे.  सॉरी कहना बुरी बात नहीं है और ना ही माफ करना मुश्किल काम है, माफी मांगने से झगडा आगे नही बढता, इसलिए माफी मांगने में कंजूसी ना करें. इसी तरह अगर आपके पार्टनर ने आपके घर व आपके लिए कुछ स्पेशल किया है तो उसे  थैंक्यू जरूर कहें.आपके द्वारा कहा गया थैंक्यू उनको कितनी खुशी देगा उसका अंदाजा आप नहीं लगा सकते. थैंक्यू शब्द रिश्तों में जादू का काम करता है.

ख़ास पलों को याद रखें

पति पत्नी एक दुसरे की लाइफ से जुड़े खास पलों को याद रखें. एक दूसरे का बर्थडे एनिवेर्सरी, पहली मुलाकात, प्रमोशन आदि. साथ ही इन खास अवसरों पर एक दूसरे के लिए कुछ खास सरप्राइज भी प्लान करें. यह कोई मुश्किल काम नहीं लेकिन इस छोटे से काम से आप अपने लाइफ पार्टनर की ज़िन्दगी में अपनी एक खास जगह ज़रूर बना सकते हैं.

ये भी पढ़ें-  Hindi Kahani

तारीफ से जीतें दिल

आपके पार्टनर  ने कोई नयी डिश बनायी, कोई नयी ड्रेस पहनी,नया हेयर स्टाइल बनाया तो उसकी तारीफ़ करना न भूलें. इस तारीफ को हो सके तो घर वालों, दोस्तों के सामने भी कहें. इससे आपके लाइफ पार्टनर के दिल में आपके लिए प्यार बढेगा. अगर आपके पार्टनर ने कुछ नया किया है तो उसकी तारीफ़ जरूर करें, इस से उसका हौसला बढेगा और वह अपनी कामयाबी का क्रेडिट आपको देगा.

अपशब्दों से रखें दूरी

आपसी बातचीत के दौरान हमेशा तहजीब व शिष्टाचार रखें. कभी भी अपशब्दों या दिल दुखाने वाली बातें ना करें. बहस करते समय खुद पर कंट्रोल रखें क्योंकि झगड़े के दौरान कहे गए अपशब्द दिलों को आहत कर देते है और रिश्तों में दूरियां पैदा करते हैं.


 
 
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे