150 Km Range Vali Oben Rorr Electric Motorcycle Bharat mein Launch, 999 Rupaye mein hogi Book: Oben Rorr इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल -HindiShayariH सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

150 Km Range Vali Oben Rorr Electric Motorcycle Bharat mein Launch, 999 Rupaye mein hogi Book: Oben Rorr इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल -HindiShayariH

ओबेन रोर इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल भारत में लॉन्च, 999 रुपये में होगी बुक

Oben Rorr mein 4.4kWh kshamata ka fix battery pack milta hai, jo fast charge support karta hai company ka daava hai ki yah pack 15A power socket ki madad se matra do ghante mein shoonya se full charge ho sakta hai
Oben Rorr mein 4.4kWh kshamata ka fix battery pack milta hai, jo fast charge support karta hai company ka daava hai ki yah pack 15A power socket ki madad se matra do ghante mein shoonya se full charge ho sakta hai




Oben Electric ने भारत में Rorr इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल (Electric motorcycle) को लॉन्च किया है, जो 100 km/h की टॉप स्पीड पकड़ सकती है और सिंगल चार्ज में 150 km तक की रेंज देने में सक्षम है। इस बाइक की टक्कर भारत में मौजूदा Revolt RV400 और Tork Kratos इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल से होगी। अच्छी बात यह है कि Oben Rorr इलेक्ट्रिक बाइक केंद्र सरकार की FAME-II सब्सिडी और राज्य सरकारों की सब्सिडी का भी हिस्सा है, जिससे इस बाइक की कीमत काफी कम हो जाती है।

Oben Rorr को भारत में 1.25 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) है। इस कीमत में भारत सरकार की FAME-II सब्सिडी शामिल है। इतना ही नहीं, राज्य सरकारों द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी को मिलाने के बाद ग्राहक इस इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल को कम से कम 99,999 रुपये (एक्स-शोरूम) कीमत पर खरीद सकते हैं। ग्राहक इस ई-बाइक को 18 मार्च से कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर 999 रुपये में बुक करा सकेंगे।




Rorr इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल में एक स्थाई मैग्नेटिक मोटर मिलती है, जो 10kW का पीक आउटपुट निकालने में सक्षम है। इसका पीक टॉर्क 62Nm है। इसमें बेल्ट ड्राइव सिस्टम मिलता है। इन सब की बदौलत यह इलेक्ट्रिक बाइक 100 किलोमीटर प्रति घंटा की टॉप स्पीड और कंपनी के दावा अनुसार, 3.0 सेकंड में 0-40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ सकती है।

इसमें 4.4kWh क्षमता का फिक्स बैटरी पैक मिलता है, जो फास्ट चार्ज सपोर्ट करता है। कंपनी का दावा है कि यह पैक 15A पावर सॉकेट की मदद से मात्र दो घंटे में शून्य से फुल चार्ज हो सकता है। अच्छी बात यह है कि कंपनी का कहना है कि वह बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के ग्राहक के घर पर 15A क्षमता का सॉकेट इंस्टॉल करेगी।


 

इलेक्ट्रिक बाइक Eco, City और Havoc नाम के तीन राइडिंग मोड के साथ आती है, जिनमें स्पीड क्रमश: 50km/h, 70km/h और 100km/h तक सीमित रहती है, लेकिन इसका रेंज में भी फर्क पड़ता है। तीनों मोड में क्रमश: 150km, 120km और 100km की रेंज मिलती है।

इसमें सभी जरूरी कनेक्टिड फीचर्स भी मिलते हैं। बाइक में Bluetooth कनेक्टिविटी भी मिलती है, जिसमें मोबाइल फोन पर खास ऐप के जरिए बाइक को कनेक्ट किया जा सकता है। Rorr इलेक्ट्रिक बाइक में 17-इंच के व्हील्स मिलते हैं और फ्रंट और रियर में डिस्क ब्रेक दिए गए हैं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Maa Ki Shaadi मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था?

मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? मां की शादी- भाग 1: समीर अपनी बेटी को क्या बनाना चाहता था? समीर की मृत्यु के बाद मीरा के जीवन का एकमात्र मकसद था समीरा को सुखद भविष्य देना. लेकिन मीरा नहीं जानती थी कि समीरा भी अपनी मां की खुशियों को नए पंख देना चाहती थी. संध्या समीर और मैं ने, परिवारों के विरोध के बावजूद प्रेमविवाह किया था. एकदूसरे को पा कर हम बेहद खुश थे. समीर बैंक मैनेजर थे. बेहद हंसमुख एवं मिलनसार स्वभाव के थे. मेरे हर काम में दिलचस्पी तो लेते ही थे, हर संभव मदद भी करते थे, यहां तक कि मेरे कालेज संबंधी कामों में भी पूरी मदद करते थे. कई बार तो उन के उपयोगी टिप्स से मेरे लेक्चर में नई जान आ जाती थी. शादी के 4 वर्षों बाद मैं ने प्यारी सी बिटिया को जन्म दिया. उस के नामकरण के लिए मैं ने समीरा नाम सुझाया. समीर और मीरा की समीरा. समीर प्रफुल्लित होते हुए बोले, ‘‘यार, तुम ने तो बहुत बढि़या नामकरण कर दिया. जैसे यह हम दोनों का रूप है उसी तरह इस के नाम में हम दोनों का नाम भी समाहित है.’’ समीरा को प्यार से हम सोमू पुकारते, उस के जन्म के बाद मैं ने दोनों परिवारों मे