Read Hindi Kahani Mission Mohabbat P-1 सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Read Hindi Kahani Mission Mohabbat P-1

Read Hindi Kahani Mission Mohabbat P-1

Mission Mohabbat: bhaag-1 मिशन मोहब्बत: भाग-1
कैंपस सिलैक्शन में राहुल का चयन गुजरात की एक बहुत बड़ी कैमिकल ऐंड फर्टिलाइजर फैक्टरी में हो गया था.
कुमुद भटनागर



mission mohabbat part 1 best story
कैंपस सिलैक्शन में राहुल का चयन गुजरात की एक बहुत बड़ी कैमिकल ऐंड फर्टिलाइजर फैक्टरी में हो गया था. फैक्टरी की अपनी आवासीय कालोनी थी, मनोरंजन के सभी साधन थे, शहर जाने के लिए फैक्टरी की गाडि़यां थीं, कुछ लोगों से दोस्ती भी हो गई थी, फिर भी अभी राहुल का दिल नहीं लग रहा था. लेकिन कुछ सप्ताह से आवाज में मायूसी के बजाय उत्साह झलकने लगा था.

एक शाम यह सुन कर विशाल और मानसी ने राहत की सांस ली कि अगली सुबह विशाल टूर पर जयपुर जा रहा था. राहुल ने चहक कर कहा, ‘‘सच पापा, मजा आ गया.’’

‘‘जयपुर मैं जा रहा हूं, मजा तुझे किस खुशी में आ गया, भई?’’ विशाल ने चौंक कर पूछा.

‘‘अब क्या बताऊं पापा, आप फोन कौन्फ्रैंस मोड पर लगा दीजिए ताकि मम्मी भी सुन लें.’’

‘‘फोन कौन्फ्रैंस मोड पर ही है, बोल क्या सुना रहा है मुझे,’’ मानसी ने उतावलेपन में कहा.

‘‘मेरे बौस हैं न सलिल मेहरा, उन की ससुराल है जयपुर में, उन की साली भी मेरे साथ ही ट्रेनिंग ले रही है. सो, सलिल साहब के घर पर आनाजाना हो गया है. यह सुन कर कि पापा टूर पर जयपुर जाते रहते हैं, अर्पिता दीदी, मेरा मतलब है श्रीमती मेहरा ने कहा कि अब जब जाएं तो बताना, मम्मीपापा से कहूंगी उन से मिलने को. मैं उन को आप का मोबाइल नंबर दे देता हूं. प्रेम सर्राफ आप को फोन कर लेंगे, वे मेरे बौस के ससुर हैं, पापा.’’

ये भी पढ़ें- बस कंडक्टर

‘‘सीधे से कह न, मेरे होने वाले ससुर हैं…’’

‘‘आप भी न पापा…’’ और राहुल ने फोन काट दिया.

‘‘थोड़े में ही बहुत कुछ कह गए, बरखुरदार,’’ विशाल ने उसांस ले कर कहा, ‘‘मगर यह रिश्तेविश्ते की

बात मुझ से नहीं होगी. तुम भी साथ चलो, मानसी.’’

इतने शौर्ट नोटिस पर और वह भी बेटे की संभावित ससुराल जाना, मानसी कैसे मान सकती थी. टालने के स्वर में बोली, ‘‘जब लड़की ही वहां नहीं है तो मैं जा कर क्या करूंगी?’’


mission mohabbat part 1 hindi kahani ‘‘यह बात भी ठीक है, मैं भी

काम का बहाना बना कर टालने की कोशिश करूंगा.’’

अगली सुबह प्लेन से बाहर आते ही जैसे विशाल ने अपना मोबाइल स्विच औन किया, घंटी बजने लगी.

‘‘नमस्कार विशाल सहगल साहब, मैं कामिनी सर्राफ बोल रही हूं. राहुल ने आप को बताया होगा कि मेरे पति प्रेम सर्राफ आप को फोन करेंगे लेकिन वे तो आजकल अजमेर गए हुए हैं, सो मैं फोन कर रही हूं.’’

विशाल आवाज की मधुरता और खनक से अभिभूत हो गया.

‘‘नमस्कार जी, बड़ी खुशी हुई आप से बात कर के. कहिए, मेरे लिए क्या हुक्म है?’’

‘‘गुजारिश करने की हिमाकत कर रही हूं,’’ कामिनी की हंसी ने विशाल के मनमस्तिष्क को एक बार फिर झंकृत कर दिया, ‘‘आज की शाम मेरे साथ बरबाद कीजिए.’’

‘‘हुक्म करिए, अपनी शाम संवारने के लिए कब और कहां हाजिर होना है?’’

‘‘जब आप को फुरसत हो, आप फोन कर दीजिएगा, मैं गाड़ी भिजवा दूंगी.’’

‘‘वैसे तो आप जब कहें फुरसत निकाल सकता हूं लेकिन 6 बजे के बाद तो खाली हूं.’’

‘‘आप जब, जहां कहें, गाड़ी पहुंच जाएगी.’’

‘‘मेरे पास बैंक की गाड़ी है, आप पता बता दीजिए, मैं शाम साढ़े 7 बजे हाजिर हो जाऊंगा.’’

‘‘रेलवे औफिसर कालोनी में किसी से भी चीफ इंजीनियर का घर पूछ लीजिएगा. शाम को मिलते हैं फिर, हैव ए गुड डे,’’ कह कर कामिनी ने फोन रख दिया.

विशाल सिटपिटा गया. गुड डे का आगाज जो कामिनी की आवाज से हुआ था, यह सुनते ही कि प्रेम सर्राफ रेलवे के चीफ इंजीनियर हैं, गायब हो गया. राहुल पर गुस्सा भी आया, बताना तो चाहिए था कि किस के यहां मिलने भेज रहा है ताकि वे उस के अनुरूप कपड़े तो लाता. अभी तो औफिस में पहनने वाले कपड़े ही लाया है. वैसे अमेरिकन बैंक मैनेजर के औफिस के कपड़े भी बढि़या ही रहते हैं, फिर भी किसी खास जगह जाने और खास हस्ती से मिलने के लिए तो कुछ खास होना चाहिए. खैर, अब जो भी हैं उन्हें कड़क प्रैस करवा लेगा.


गैस्ट हाउस पहुंच कर बैग खोलते ही वह फड़क उठा. मानसी ने खास कपड़ों के अलावा, दुबई के सूखे मेवों का गिफ्ट हैंपर भी रख दिया था. कमाल की व्यवहारकुशलता थी मानसी में. बगैर कहे वक्त की नजाकत को समझ कर वक्त के साथ चलना तो उस की खासीयत थी. लेकिन आज मानसी के बारे में सोचने के बजाय उसे कामिनी सर्राफ की आवाज के बारे में सोचना अच्छा लग रहा था. शाम को फुरसत मिलने पर जब मानसी को फोन किया तो यह तो बताया कि वह सर्राफ के यहां जा रहा है लेकिन यह बताना टाल गया कि प्रेम सर्राफ शहर में नहीं हैं.

कामिनी की आवाज ही आकर्षक नहीं थी, व्यक्तित्व में भी अजीब चुंबकीय कशिश थी. पहली बार संभावित समधी से अकेले मिलने की हिचक भी नहीं थी उस में जबकि विशाल को समझ नहीं आ रहा था कि क्या बात करे.

‘‘प्रेम साहब अकसर टूर पर रहते हैं?’’ न चाहते हुए भी घिसापिटा सा सवाल पूछा.

‘‘महीने में 2-3 बार जाना पड़ ही जाता है. सुना है आप अकसर जयपुर आते रहते हैं?’’

‘‘जी हां, जयपुर का जिस तेजी से विकास हो रहा है उस के मुताबिक हम भी अपने बैंक की सेवाओं का विस्तार कर रहे हैं. उसी सिलसिले में आता रहता हूं. कभीकभी मानसी भी साथ आ जाती है.’’

‘‘अगली बार उन्हें जरूर साथ लाइएगा,’’ कह कर कामिनी ने मेज पर रखा लैपटौप उठा लिया, ‘‘आप को उस फैक्टरी की तसवीरें तो दिखा दूं जहां आप का बेटा काम करता है.’’

लैपटौप पर फैक्टरी और कालोनी की तसवीरें थीं. कुछ देर बाद तसवीरों को आगे बढ़ाते हुए कामिनी बोली, ‘‘अब अपने बेटे को भी देख लीजिए, कालोनी के क्लब की तसवीरें हैं,

यह बैडमिंटन खेल कर आता हुआ आप का बेटा है और इस के साथ मेरी छोटी बेटी निकिता और यह रहा मेरा दामाद सलिल और यह बड़ी बेटी अर्पिता.’’


‘‘अरे, परिवार के मुखिया से तो मिलवाया ही नहीं?’’

‘‘अभी साइड टेबल पर रखी तसवीर ही देख लीजिए, फिर कोई सीडी लगाऊंगी.’’

ये भी पढ़ें- लौट जाओ अमला

तभी एक युवक और युवती आ गए. कामिनी ने परिचय करवाया, ‘‘मेरा भतीजा राघव और इस की पत्नी ऋतु, ये दोनों कोठारी कैपिटल में काम करते हैं यानी आप की तरह ही पैसे के लेनदेन का धंधा करने वाले.’’

‘‘आजकल तो चाची, बस, देने का ही काम रह गया है,’’ राघव हंसा.

‘‘ठीक कह रहे हैं, लेने का तो दूरदूर तक पता नहीं है,’’ विशाल ने जोड़ा.

‘‘इस लेनेदेने के लेखेजोखे में उलझने से पहले बेहतर रहे, राघव, कि तुम अजयजी से उन की पसंद पूछ लो,’’ कामिनी ने कहा, ‘‘विशालजी, ऋतु और राघव लजीज व्यंजन बनाने में माहिर हैं. बस अपनी पसंद बता दीजिए.’’

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

एक दिन अचानक हिंदी कहानी, Hindi Kahani Ek Din Achanak

एक दिन अचानक दीदी के पत्र ने सारे राज खोल दिए थे. अब समझ में आया क्यों दीदी ने लिखा था कि जिंदगी में कभी किसी को अपनी कठपुतली मत बनाना और न ही कभी खुद किसी की कठपुतली बनना. Hindi Kahani Ek Din Achanak लता दीदी की आत्महत्या की खबर ने मुझे अंदर तक हिला दिया था क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. फिर मुझे एक दिन दीदी का वह पत्र मिला जिस ने सारे राज खोल दिए और मुझे परेशानी व असमंजस में डाल दिया कि क्या दीदी की आत्महत्या को मैं यों ही व्यर्थ जाने दूं? मैं बालकनी में पड़ी कुरसी पर चुपचाप बैठा था. जाने क्यों मन उदास था, जबकि लता दीदी को गुजरे अब 1 माह से अधिक हो गया है. दीदी की याद आती है तो जैसे यादों की बरात मन के लंबे रास्ते पर निकल पड़ती है. जिस दिन यह खबर मिली कि ‘लता ने आत्महत्या कर ली,’ सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि यह बात सच भी हो सकती है. क्योंकि दीदी कायर कदापि नहीं थीं. शादी के बाद, उन के पहले 3-4 साल अच्छे बीते. शरद जीजाजी और दीदी दोनों भोपाल में कार्यरत थे. जीजाजी बैंक में सहायक प्रबंधक हैं. दीदी शादी के पहले से ही सूचना एवं प्रसार कार्यालय में स्टैनोग्राफर थीं. लता

Hindi Family Story Big Brother Part 1 to 3

  Hindi kahani big brother बड़े भैया-भाग 1: स्मिता अपने भाई से कौन सी बात कहने से डर रही थी जब एक दिन अचानक स्मिता ससुराल को छोड़ कर बड़े भैया के घर आ गई, तब भैया की अनुभवी आंखें सबकुछ समझ गईं. अश्विनी कुमार भटनागर बड़े भैया ने घूर कर देखा तो स्मिता सिकुड़ गई. कितनी कठिनाई से इतने दिनों तक रटा हुआ संवाद बोल पाई थी. अब बोल कर भी लग रहा था कि कुछ नहीं बोली थी. बड़े भैया से आंख मिला कर कोई बोले, ऐसा साहस घर में किसी का न था. ‘‘क्या बोला तू ने? जरा फिर से कहना,’’ बड़े भैया ने गंभीरता से कहा. ‘‘कह तो दिया एक बार,’’ स्मिता का स्वर लड़खड़ा गया. ‘‘कोई बात नहीं,’’ बड़े भैया ने संतुलित स्वर में कहा, ‘‘एक बार फिर से कह. अकसर दूसरी बार कहने से अर्थ बदल जाता है.’’ स्मिता ने नीचे देखते हुए कहा, ‘‘मुझे अनिमेष से शादी करनी है.’’ ‘‘यह अनिमेष वही है न, जो कुछ दिनों पहले यहां आया था?’’ बड़े भैया ने पूछा. ‘‘जी.’’ ‘‘और वह बंगाली है?’’ बड़े भैया ने एकएक शब्द पर जोर देते हुए पूछा. ‘‘जी,’’ स्मिता ने धीमे स्वर में उत्तर दिया. ‘‘और हम लोग, जिस में तू भी शामिल है, शुद्ध शाकाहारी हैं. वह बंगाली तो अवश्य ही

Famous Love Shayari Of These Five Noted Urdu Poet होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते

  Bashir badr shayari  बशीर बद्र की नज़्मों में मोहब्बत का दर्द समाया हुआ है। उनकी शायरी का एक-एक लफ़्ज़ इसका गवाह है। Bashir badr shayari     होठों पे मुहब्बत के फ़साने नहीं आते साहिल पे समुंदर के ख़ज़ाने नहीं आते पलकें भी चमक उठती हैं सोते में हमारी आंखों को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते दिल उजड़ी हुई इक सराये की तरह है अब लोग यहाँ रात जगाने नहीं आते उड़ने दो परिंदों को अभी शोख़ हवा में फिर लौट के बचपन के ज़माने नहीं आते इस शहर के बादल तेरी ज़ुल्फ़ों की तरह हैं ये आग लगाते हैं बुझाने नहीं आते अहबाब भी ग़ैरों की अदा सीख गये हैं आते हैं मगर दिल को दुखाने नहीं आते मोहब्बत के शायर हैं जिगर मुरादाबादी इक लफ़्ज़-ए-मुहब्बत का अदना सा फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़, फ़ैले तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का इतना ही फ़साना है रोने को नहीं कोई हंसने को ज़माना है ये इश्क़ नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे एक आग का दरिया है और डूब के जाना है     जिगर मुरादाबादी शायरी     वो हुस्न-ओ-जमाल उन का, ये इश्क़-ओ-शबाब अपना जीने की तमन्ना है, मरने का ज़माना है अश्क़ों के तबस्सुम में, आहों के तरन्नुम में मासूम मुहब्ब